Tag Archives: Study

Her ring finger

Finally train came with its sad honking as it also realised all the swearing of Rafiq. Rafiq searched his seat and sat down but he didn’t stop his swearing in murmuring sound.
There was a couple sitting in front of him. The lady was glowing like a diamond may be because of her love.
He overheard them.
‘I am eagerly waiting to see our country beautiful state.’
‘Yes, this time we can see the heaven finally.’
Rafiq was overwhelmed by these compliments for his state.
He couldn’t resist himself from speaking.
‘You both will feel so good there.’
The man looked upon him in question.
‘Hey, I am sorry for overhearing and interruption but I am from Kashmir so I can say it for sure.’
‘My name is Rafiq, Rafiq Adzan.’
‘My name is Vikram Thakur and she is my beloved wife Razia Haseen.’
‘Nice to meet both of you.’
‘We were planning this trip from 3 years but for some reason it always postponed.’
‘I am happy that you are going this time.’
Suddenly Rafiq phone started vibrating. It was from Ammi.
“Where are you Rafiq? You didn’t call for once today? Are you alright?” Mother was in so much stressed.
‘Ammi I am good, and I am in some college meeting. I couldn’t call you. Sorry.’
He wanted to cut the phone as soon as possible. He didn’t want to give her a slightest of hint about his coming to home.
‘Ok bye Ammi, I will call you soon.’
He put down the phone with a sigh of relief.
‘Mothers are mothers.’ He said while smiling.
He looked upon them for some reaction but both were giving a sad look.
‘Not every mother is an angel.’ Razia said while looking at other side. May be she was in tears.
Rafiq looked at her left hand from where the ring finger was absent or looking like someone notched it down.
Sad affairs.
Vikram started kissing her hand and said- ‘you can see it is a inter religion marriage and my own family disowned me and her. Even try demolished my office in my city.’
‘I could never went back.’
Rafiq felt bad for them but he was happy to see both of them in comfort.
Soon, the trio had their dinner together and started watching movie.
Tonight, Rafiq didn’t feel like a different person or foreigner with both of them. He felt like one of them.
Stressed, Sad, isolated and more over bullied.

Advertisements

Strangers and life

Don’t make a distance from strangers”.
Since our birth till our death, we always surround by strangers and we keep making relations with those strangers as our parents, our relatives or friends.
Making friends is not a big deal but it takes a lot of courage to keep faith on a stranger. I did this brave work a lot of time.
When I went to the stranger city to complete my studies after 10th, it made afraid. However, I decided to make friends because it was hard to be alone for me. I tried my best to make someone my friend but it failed. In school, whenever I tried to talk people started talking about homework and Trigonometry. I hate that and I felt isolation.
Same thing happened in coaching where in the time period of 4 hours, I could never get 4 minutes to talk to anyone.
When I complained this to my parents that I ain’t able to study because I am alone.
“What do you need? You have enough books.”
“Friends will spoil you.”
“Keep studying”
Trust me, I was so alone and it was hard to survive there. Nobody should live alone and I was the nobody.
I couldn’t find and when I found some people it was hard to describe the situation. Although that was another story and soon will recite them.
But, please take care of yourself and your future generation. If someone doesn’t have friends it means there are some problems and you need to discuss it.
My two years were so bad that I could pray it should never happen with anyone else.

ज़िंदगी पढ़ पढ़ कर शुन्य हो जाएगी

“अजनबियों से दूर न रहें”
पैदा होने से लेकर मृत्यु तक हम अजनबियों से मिलते हैं, उन्हें समझते हैं और हर किसी से कोई रिश्ता जोड़ लेते हैं चाहे माँ-बाप का हो, रिश्तेदारों का हो या दोस्ती का हो| लोग चाहे माने या न माने, दोस्त बनाना मुश्किल नहीं है लेकिन दोस्ती शब्द पर यकीन करना और किसी अजनबी के साथ अपने एक नया रिश्ता जोड़ना एक बहुत ही साहसिक कदम होता है|
जो भी हो, मैंने ऐसे साहसिक कदम बहुतेरे बार उठाये थे| जब मैं पहली बार उस अजनबी शहर में गयी थी तब थोड़ा डर लगा था लेकिन कुछ दिनों में मैंने कि दोस्त तो बनाने ही पड़ेंगे नहीं तो ज़िंदगी पढ़ पढ़ कर शुन्य हो जाएगी| खैर जिस स्कूल में मैं पढ़ रही थी वहां मैं दोस्त चाह कर भी न बना सकी क्योंकि जब भी किसी से बात करने की कोशिश करती या तो वो Trigonamatry के questions लेकर बैठ जाते या फिर फिजिक्स का होमवर्क|
फिर दोस्त न होने की वजह से मेरा दिल भाग गया स्कूल से और मैं मानती हूँ वो मेरी गलती थी| लेकिन एक इंसान कब तक अकेले अकेले रहेगा| मेरे साथ भी यहीं हुआ|
सोचा स्कूल के दायरे से बाहर निकल कर दोस्त बनाते हैं| लेकिन Coaching में तो चार घंटे की क्लास में 4 मिनट भी बात नहीं करने देते थे| वहां भी स्कूल जैसी ही problem हो गयी थी|
जब मैंने अपने घरवालों को शिकायत की कि यहाँ तो कोई दोस्त ही नहीं बन रहा, मैं कैसे रहूंगी यहाँ?
“तो क्या बिना दोस्त के पढाई नहीं होती|”
“चुपचाप पढाई में दिमाग लगाओगी तो दोस्त याद नहीं आएंगे|”
“जितनी दोस्ती में पड़ोगी पढाई उतनी ख़राब होगी”|
यकीन मानिये मैं जितनी अकेली थी उससे ज्यादा दुनिया में कोई और नहीं होगा| शायद उन दो सालों में मेरे अंदर ही कुछ गलतियां होंगी जिससे स्कूल और coaching कहीं एक दोस्त नहीं बन पाया|
दोस्त बने लेकिन वो एक अलग कहानी है और अलग रस्ते पर है जो जल्द ही बताई जाएगी|
लेकिन एक बात ध्यान रखें- बिना रिश्ते संसार नहीं झेल सकते आप| बहुत कुछ खो देते हैं अकेले अकेले के चक्कर में| बच्चों को अगर बच्चें नहीं मिल रहे तो ये गौर करने की बात है कि आखिर समस्या क्या है?
वो दो साल बहुत कठिन थे, आप खुद को और अपने आने वाले generation को बचाइयेगा|

School, a Laboratory

There is a much more difference between being a father and being as a father.
Our society takes school as a laboratory where a child becomes disciplined and obedient, but my father never approved this theory. So, I studied at home till I was 10. I got admission in school in class 5th for the very first time. I had studied so many things and of course religious books too. I was running ahead of the school course, actually.
Before taking admission, I was the most innocent child and didn’t even have any idea how to make a fuss. But after the admission, almost every teacher had got complaint about me.
That’s not the actual story. Story started when I was in 11th class, the most toughest situation of my life. I got passing marks in my finals. Some so-called reformers called my father that I have become a devil. My father came and forced me to go home. I was stunned from his behaviour.
However, we went to principal office for my transfer certificate. But, my principal didn’t seem a easy person and made us to spill our very reason behind my TC.
He patted me on my head and said I would keep you like my daughter and promise me you will study so hard.
I was a devil and I told yeah, I will.
After 3 long moths, my parents called- What did you do with Principal now? He called us to take you back. You abused some mayor’s son? He told us he couldn’t keep you as daughter now?

Hah, I knew none could do this unbearbale job except my Pappa.
Although, I would abuse any person who abuses girls and their rights. By the way, I got suspension letter from my Pretending father (principal) because I abused that scum.

स्कूल, एक प्रयोगशाला

“बापू बनना और बापू होने में फ़र्क है|”
स्कूल, बच्चों को disciplined और संस्कारी बनाने की एक प्रयोगशाला है, ऐसा कई लोग मानते हैं| लेकिन मेरे बापू इस बात से सहमति नहीं रखते थे इसीलिए शुरुआती शिक्षा तक़रीबन 10 सालों तक घर में ही हुई| जब मैंने 5th क्लास में जाकर पहली बार स्कूल का मुँह देखा तो पता चला हड़प्पा संस्कृति तो अभी छठी कक्षा से पढ़ाया जाएगा और मैंने तो तक़रीबन सारी संस्कृतियां पहले ही पढ़ ली हैं|
वैसे बचपन में मैं बिल्कुल ही नहीं बोलती थी और शैतानी तो जानती ही नहीं थी लेकिन जब से स्कूल जाना शुरू किया तब से आधे से ज्यादा teachers की complaints मेरे घर पर ही आती थी| दसवीं तक तो कुछ नहीं हुआ, पढाई अच्छी थी तो teachers की सुनती कहां थी|
लेकिन अब आया 11th और उसके फाइनल exams में हर सब्जेक्ट में पासमार्क्स आये| पापा को किन्ही समाजसुधारक लोगों ने चुगली कर दी कि आपकी बेटी यहाँ बिगड़ चुकी है| अब बप्पा तो आगये वापस ले जाने को|
पहले मैंने जब खुद बोला था बुला लो तो बापू ने मना कर दिया लेकिन जब तीसरे फलाना-ढिमकाना ने चुगली की तो वापस लेने आगये|
चलो कोई नहीं, अब हम दोनों स्कूल पहुंचे Transfer Certificate के लिए प्रिंसिपल के सामने| प्रिंसिपल साहब ने बड़े प्यार से तहकीकात की और मुझसे पूछा क्या तुम आगे पढ़ना चाहती हो इस स्कूल में? अब मरती क्या न करती, बेशर्मी से हाँ बोल दी- जी सर, मैं promise करती हूँ मैं मन लगा कर पढाई करूंगी|
प्रिंसिपल सर ने मेरे सर पर हाथ रख दिया और मेरे पापा से कहा कि आप घर जाओ आज से ये मेरी बेटी है|
अब बेटी तो बना ली लेकिन बेटी के साथ जो दिक्क्तें थी वो न सुनी|
3 महीने के बाद मेरे घर से मुझे फ़ोन आया- अब क्या कर दिया तुमने ऐसा? मेयर के बेटे को गाली दे दी? प्रिंसिपल ने फ़ोन किया अभी कि अपनी बेटी को वापस बुला लो, अब ये मामला मैं नहीं संभाल सकता|
अब अगर कोई इंसान जबरदस्ती लड़कियों को गले लगाएगा चाहे वो मेयर का बेटा हो या मेयर खुद क्यों न हो, गाली तो सुनेगा| वो अलग बात है कि उस self-defense के चक्कर में मुझे एक हफ्ते के लिए बापू बने प्रिंसिपल ने स्कूल से suspend कर दिया था|

मेरा बेऔकाती सपना

करना वही चाहिए जो हमेशा आपका मन करें|
लेकिन हमेशा यह सत्य नहीं होता, कभी-कभी कुछ चीजे हमें जबरदस्ती में अच्छा लगने लगता है| सबसे बड़ा उदाहरण था जब मेरा अचानक से Roadies बनने का मन करने लगा और उसके दो साल बाद Neurologist बनने के सपने देखने लगी| अब बेटी जब गीता के पांच अध्याय संस्कृत में याद कर सकती है तो वह तो कुछ भी कर सकती है|
लेकिन गीता और science में जमीन-आसमान से भी ज्यादा का फ़र्क़ था|
उस अजनबी शहर के नामी coaching institute में मैं MBBS की तैयारी करने लगी| एक तो स्कूल में अलग से 11th और 12th की पढाई करो उसपे से एक और tuition पकड़ लो| ज़िंदगी में कुछ बचा ही नहीं था| एक दिहाड़ी मजदूर भी मेरे से कम काम करता होगा, मेरा क्या था सुबह 5 बजे जगो, 2 बजे दोपहर को वापस आओ और फिर चार बजे ट्यूशन जाओ और फिर 9 बजे वापस आओ, उसमे भी चैन नहीं आकर अपने उस बेऔकाती सपने को पूरा करने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दो|

सच बता रही हूँ, मैं तब भी नहीं हारी थी| मैं जानती थी इतना आसान नहीं है ये लेकिन ये मेरे लिए भी नहीं है| मैंने रोया, बताया बुला लो वापस मुझसे नहीं होगा लेकिन पापा ने एक ही बात बोली थी- मुझे पता है तुमने गलत चीज़ चुन ली लेकिन अब ये लड़ाई तुम्हारी है, तुम्हे पूरा छूट है गलत होने का, हारने का लेकिन ये लड़ाई से वापस लौटने का कोई सवाल नहीं है|

मैं फिर उस दो तरफ़े लड़ाई में खड़ी हुई| फिर से पन्ने पलटे कुछ समझ नहीं आया और कोशिश की लेकिन कुछ नहीं आया समझ| आखिर Neurologist बनने के लिए क्यों मुझे Physics का Right hand thumb rule समझना जरुरी है ये आज तक समझ नहीं आया|

लेकिन स्कूल और कोचिंग का पहला एग्जाम आया और मुझे मेरे उम्मीदों के नक़्शे पर लाल निशान से जीरो पाया| मैं टूट गयी थी, रातों की नींद ख़राब कर के अंडा देखना मेरे पहले breakup से भी ज्यादा दर्दनाक था|
लेकिन अभी तो और निशान देखने बाकि थी सिर्फ एग्जाम के शीट पर नहीं कहीं मेरी ज़िंदगी और मेरी सोच पर भी|

Gender configuration बिगाड़ दिया था

नयी जगह नया शहर नए लोग,,,,,
अचानक से सब कुछ बदल गया था| अब एक लड़की को पैंट- शर्ट छोड़ कर सलवार- कुर्ती पहनने का फरमान सुना दिया गया| मैं दसवीं के बाद अपना, आप समझ रहे हैं न मेरा अपना घर मुझे छोड़ कर किसी अजनबी शहर आना पड़ा ताकि मैं डॉक्टर बन सकूँ| बचपन से अचानक शौक पैदा होने के कारण ये दिन देखने पड़े थे मुझे|
वैसे सलवार-कुर्ती खाप का फरमान नहीं था मेरे नए स्कूल का था|
मुझे याद है जब मैंने पहली बार स्कूल पांचवी क्लास से शुरू किया था, अजूबा नहीं थी लेकिन थी मैं ही| बचपन से ही पैंट-शर्ट पहना कर Gender configuration बिगाड़ दिया था पापा ने मेरा| जब मैंने पहली बार स्कर्ट पहना था तो मुझे बड़ी गन्दी feeling आयी थी, शायद ऐसा लगा था जैसे किसी को बेइज़्ज़त करने के लिए उसे औरतों के कपडे पहना दिए हों| तब से लेकर आज तक कभी स्कर्ट नहीं पहना|
अब कुर्ती-सलवार पहनने के बाद ऐसा लगा जैसे हर पल कोई मुझे सुइयां चुभो रहा है| मरती क्या न करती! जैसे तैसे पहन कर स्कूल के पहले दिन स्कूल पहुँच गयी|
“अरे मुझे तो यहाँ कोई जानता ही नहीं, मेरी तो कोई पहचान ही नहीं यहाँ”|
“अब क्या करना, पुरे दो साल तक ये सलवार- कुर्ती घिसनी तो पड़ेगी ही भले शक्ल लड़कों जैसी हो, बाल छोटे हों और कनपटी ह्रितिक रोशन के style में हजाम से बाल कतरी हुई हो| “
मुझे उस दिन लगा कि क्या मेरी कोई अपनी पहचान नहीं, बाल कटा लिए तो मैं लड़का हो गयी, कुर्ती पहन ली तो लड़की हो गयी? लड़के पैंट पहने तो लड़के, लड़की अगर बचपन से पैंट पहने तो दस बार स्कूल में teachers टोकते हैं|
मेरे साथ यही हुआ था कुछ, न लड़के बात करना चाह रहे थे क्योंकि मैं एक सुन्दर लड़की नहीं थी और नहीं लड़कियां बातनहीं करना चाह रही थी क्योंकि मैं एक लड़की जैसी नहीं दीख रही थी|
 
सब कुछ बदल गया और सबसे ज्यादा मैं| एक दिन में मैं, मैं न होकर शून्य हो गयी थी| अगले दो साल और क्या बनना बाकी था पता नहीं?
 
Part-2