कुछ तो था मुझमें

ख्वाहिशों के साये में कदम चले थे लेकिन निशां का ज़िक्र न था
हर दिन जीने की तलब चाह कर, हर दिन के जीने का फ़िक्र न था।

हर दर को दीदार करने की सबब थी, पर दर की ठोकरों की चोट का शिकन न था,
जो रास्तें मंज़िलों तक ले जाती, उन रास्तों पर चलने का ज़ोर न था।

बंजारों की महफ़िल में शाम बिताने की कसक थी, इसीलिए किसी ठिकाने पर अपना मोड़ न था,
यादें जो बाकी रह गयी थी, उन यादों से निकले शोर का का कोई ग़म न था।

रात की गहराइयों में सिर्फ अंधेरा न था, उस दिन अंधेरे से इश्क़ सा होने लगा था,
काली आँखों में छुपे राज का पता न था, लेकिन आँखों से निकला पानी कुछ अपना सा था।

बात ज़ुबां पर आ कर लौट रही, दिल मानने को तैयार न था,
वक़्त की दरकार थी, शायद वापस कभी खुद से मिलना न था।

रोते भी कितना आखिर, आंसुओं का भी सब्र टूट जाता था,
कभी खुद से इतना प्यार था, आज दर्द का भी एहसास न था।

मेरा देश बदल रहा है

आज मोदी सरकार के दो साल पूर्ण होने की ख़ुशी में ‘देश बदल रहा है’ का स्वर्णगान पुरे देश भर में रेडियो से, टीवी से, इंटरनेट से, और सोशल मीडिया से किया गया है। सुबह से शाम हो गयी लेकिन ऑफिस में काम होने की वजह से वक़्त नहीं मिल पाया जिससे कि मैं ‘देश बदल रहा’ गीत सुन पाऊँ या फिर देख पाऊँ।
घर आने के बाद मैंने रेडियो चलाई लेकिन हताशा हाथ आई फिर मैंने फेसबुक पर हाथ मारी जिससे कि कुछ तो हाथ आये और कहते ही हैं- जिसका कोई नहीं होता उसका फेसबुक होता है सो इस बार भी फेसबुक ने बड़ी मदद की और मदद होनी भी थी आखिर सारे ‘मोदीवीर’ मतलब ‘देशवीर’ तो वही बैठते हैं।
अब बात करते हैं मुद्दे कि जोकि बहुत ही रोचक है, आखिर हमारे मोदी जी की बात जो है।
मैंने जब ‘देश बदल रहा’ का संगीत और गान सुना तो मुझे ऐसा लगा कि भारतीय जनता पार्टी के PR वालों ने इस बार गाने लिखने वाले को ठीक से बैठ कर समझाया नहीं की ‘भाई, दो साल पुरे होने की ख़ुशी में ये गाना लिखना है न कि सच्ची बातों का जिक्र करना है’।
लेकिन मोदी सरकार की भी सच्चाई की राह पर चलने की कसम गजब है, पूरा का पूरा गाना ही सच्चाई पर आधारित है, Disclaimer की जरुरत नहीं पड़ी न कि यह सब काल्पनिक बातों पर आधारित है या यह वीडियो देखने के बाद आपको यकीन  नहीं होगा कि आप एलियन हो।
‘देखो आसमान में खिल कर सूरज निकल रहा है’
देश का प्रचंभ अब ऊंचा उड़ रहा है
बरसों का अँधेरा अब रौशन हो रहा है
गरीब की रसोई से धुआँ हट रहा है
मेरा देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है।’

आसमान में सूरज ने 45 डिग्री की गर्मी निकाल रहा है, जिससे कि हर कोई नज़रे झुका कर भगवान् को कोस रहा है। प्याज़ 1 रूपये किलो के हिसाब से बिक रहा है और दाल 200 रुपये किलो के हिसाब से, अनन्दाता या गरीब किसान हर रोज़ मर रहा है, स्वच्छ कर और किसान सेस लगने से सब कुछ बिक रहा है इसीलिए गरीबों के घर से धुआं नहीं निकल रहा है। और
“मेरा देश बदल रहा है, लेकिन कोई रोज़ मर रहा है”।
‘बेटियों को पढ़ा कर परिवार बढ़ रहा है’
गरीब को बिना सहारा कारोबार मिल रहा है
किसान की फसल को बीमा का बल मिल रहा है
मेरा देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है”।

शिक्षा बजट को कम कर के बेटियों के साथ सेल्फी के लिए मोबाइल फ़ोन की वयव्था की जा रही है, गरीबोंं को बिना सरकार के सहारे अपना दिन देखना पड़ रहा है और बीमा के नाम पर 100 रूपये पकड़ा कर ग्लूकोज का बल दिया जा रहा है और अडानी को लाखों रूपये का क़र्ज़ देकर बल दिया जा रहा है।
‘ “मेरा देश बदल रहा है, लेकिन कोई रोज़ मर रहा है”।

यह सब सुना मैंने उस #TransformingIndia के उस वीडियो में और मुझे नहीं पता और कितने लोगों ने यही सुना।

Why I am Like this?

Mamma,
One day I was alone inside my closet because of a ghost,
I was crying inside the closet when my mind lost,
None came for rescuing me from that dark place,
I stayed there for years and failed to find solace,
Mamma, you were not there to tell me to not to freak,
I was sobbing and remembering my days when I used to be a treak,
Once, people around me smiled with me, laughed at my jokes
but, without giving me a reason, they ridiculed and made me a joke,
Sleeping without sleep in eyes, breathing but my throat was choked,
Crying without tears, and pain inside was mocked
by those people,
I was living in the closet for years because of the unseen ghost,
Things changed, and so I did to get rid of the most
of the fears reaped in me and frightened me to take a step,
Mamma, I have erased the fear and made that ghost to rep
  Ruchi Roy.

I have Anxiety, but am Normal.

I am making this confession publicly, not to be judged by others, not to be shamed by others and not to be disappointed over me. I am making this confession just because I have grieved too much already and not in a mood to going for more.

I am neither a patient nor an abnormal, but I have pockets full of emotions which spill themselves out time to time and that is my pain. This becomes sometimes very hyper because I have none to whom I can share. Actually, I have friends but they actually get me wrong and treat me like I need sympathy whenever I try to tell them about the phase which I go through.

This anxiety has no limits and no ending point. It makes me brittle and shattered and breaks my hopes and strength to live life. I have no guilt about it because it is not self-made. People come with new ideas about how I should get calm during my anxiety and about how should I remember some good times but you know what, it doesn’t work and it would never because anxiety is not about having bad times or going through bad phase of life.

Anxiety can come at any moment of time. Many chances, when you would alone but I got it when I was in the public place and I was in my office with 40 people around my table.

I can recall the incident when I encountered it for the first time. I was in my room all alone and it started with a bad note. I was really going through personal disasters which led ‘anxiety’ in my life. One thousand thoughts about random universe started running in my mind and it was like a havoc because I couldn’t able to resist it. Shivering, body pain and chaos started surrounding me, at a fast pace. Tears trickled down on my cheeks and I was like what’s going with me? It ended up with crying and cut myself to bleeding.

Nowadays, it starts anywhere and I am unable to blame time because I live very good life. Every time, when it comes, it makes me more curious to know it. I don’t know how to erase it from life but now, I have adopted it as my child and I have started learning to live with it.

There are so many people in the world who have this anxiety and still have a fight with this. I don’t know what to tell all of you but only one thing I understood because of this is Whenever it comes, it comes with a lot more random questions and mysteries and if you crack it, you just crack the whole universe. Trust me!

 

Zootopia- An explainable courage to be a First

I want to write something and that is why I am writing this piece. I have confusion about a specific topic to write upon but right now I finished watching a very amazing movie, Zootopia and yeah, it was amazing and extremely creative.

It was an animated movie, totally anthropomorphic but still sensed a lot like other. Actually, I always love animated movies and their stories because all are supposed to be our imagination and we know we have to power to imagine endless things, any impossible thing.

In this movie, what things have shown are courage to be a change, courage to be a different, courage to be none the less, courage to be the First, and courage to be a good creature on the first note.

It influenced me a lot more than any Superhero movie or any SRK movie. I certainly believe in myself but I was never like this before a time ago. I was not this that what I am now. I hoped to be a small little cute responsible and lovable girl or woman, you can say anything.  I was supposed to be a good friend of everyone and I always was hoping for to be one but trust, this word was the pain in my ass and still pain is in me somewhere and picking my dearth emotions.

This movie showed me how you should not be someone else’s dream, don’t go for someone else’ words and just watch yourself and see yourself. You can take it as inspirational and repetitive lectures like every saint blabbers on, but for FYI, it is not an inspirational mantra.

I can swear if you watch this movie you would take a good nap tonight because it set a perfect example how can we make this earth day a DAY.