Gender configuration बिगाड़ दिया था

नयी जगह नया शहर नए लोग,,,,,
अचानक से सब कुछ बदल गया था| अब एक लड़की को पैंट- शर्ट छोड़ कर सलवार- कुर्ती पहनने का फरमान सुना दिया गया| मैं दसवीं के बाद अपना, आप समझ रहे हैं न मेरा अपना घर मुझे छोड़ कर किसी अजनबी शहर आना पड़ा ताकि मैं डॉक्टर बन सकूँ| बचपन से अचानक शौक पैदा होने के कारण ये दिन देखने पड़े थे मुझे|
वैसे सलवार-कुर्ती खाप का फरमान नहीं था मेरे नए स्कूल का था|
मुझे याद है जब मैंने पहली बार स्कूल पांचवी क्लास से शुरू किया था, अजूबा नहीं थी लेकिन थी मैं ही| बचपन से ही पैंट-शर्ट पहना कर Gender configuration बिगाड़ दिया था पापा ने मेरा| जब मैंने पहली बार स्कर्ट पहना था तो मुझे बड़ी गन्दी feeling आयी थी, शायद ऐसा लगा था जैसे किसी को बेइज़्ज़त करने के लिए उसे औरतों के कपडे पहना दिए हों| तब से लेकर आज तक कभी स्कर्ट नहीं पहना|
अब कुर्ती-सलवार पहनने के बाद ऐसा लगा जैसे हर पल कोई मुझे सुइयां चुभो रहा है| मरती क्या न करती! जैसे तैसे पहन कर स्कूल के पहले दिन स्कूल पहुँच गयी|
“अरे मुझे तो यहाँ कोई जानता ही नहीं, मेरी तो कोई पहचान ही नहीं यहाँ”|
“अब क्या करना, पुरे दो साल तक ये सलवार- कुर्ती घिसनी तो पड़ेगी ही भले शक्ल लड़कों जैसी हो, बाल छोटे हों और कनपटी ह्रितिक रोशन के style में हजाम से बाल कतरी हुई हो| “
मुझे उस दिन लगा कि क्या मेरी कोई अपनी पहचान नहीं, बाल कटा लिए तो मैं लड़का हो गयी, कुर्ती पहन ली तो लड़की हो गयी? लड़के पैंट पहने तो लड़के, लड़की अगर बचपन से पैंट पहने तो दस बार स्कूल में teachers टोकते हैं|
मेरे साथ यही हुआ था कुछ, न लड़के बात करना चाह रहे थे क्योंकि मैं एक सुन्दर लड़की नहीं थी और नहीं लड़कियां बातनहीं करना चाह रही थी क्योंकि मैं एक लड़की जैसी नहीं दीख रही थी|
 
सब कुछ बदल गया और सबसे ज्यादा मैं| एक दिन में मैं, मैं न होकर शून्य हो गयी थी| अगले दो साल और क्या बनना बाकी था पता नहीं?
 
Part-2
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s